नेपाल बॉर्डर से बैरंग लौटे दूल्हे राजा, जानिए क्यों हुआ ऐसा!

0
2303

गोरखपुर। कोरोना के लेकर उपजे हालात में सोमवार को दो दूल्हों की शादियां टल गईं। नेपाल में शादी के लिए बारात ले जा रहे दूल्हों को नेपाल प्रशासन ने रोक दिया। घंटों मनुहार के बाद जब बात नहीं बनी तो बारात लेकन दोनों दूल्हे वापस आ गए। माहौल को देखते हुए उनके घर वालो ंने शांदियों की तारीख टाल दी है। कोरोना का संकट खत्म होन े पर ही उनकी शादियां हो सकेगीं।

नो मेंस लैंड से लौटे वापस, फिर निश्चित होगी तारीख
कैम्पियरगंज निवासी रफीक अहमद का निकाह नेपाल में तय हुआ था। सोमवार को वह अपनी बारात लेकर भैरहवा जा रहे थे। बार्डर पर पहुंचे तो इस पार तो किसी ने नहीं रोका। लेकिन नेपाल सरकार की ओर से लगे बेरीकेडिंग पर जाकर उन्होंने शादी का हवाला देते हुए भैरहवा जाने की इजाजत मांगी। कोरोना के कारण बार्डर सील होने का हवाला देकर नेपाली प्रशासन ने बारात को रोक दिया। इस कारण उनकी बारात नो मेंस लैंड से ही घूमकर कैंपियरगंज आ गई। इसी तरह से महराजगंज निवासी महमूद आलम को भी बारात लेकर लौटना पड़ा। शादी के लिए वह बारात लेकर बार्डर पर पहुंचे। नेपाल के कपिलवस्तु जा रही बारात को को बार्डर पर रोक दिया गया। इसलिए उनकी शादी भी टल गई। लगन खत्म होने की वजह से हिंदू धर्म में शादियां ठप हैं। लेकिन मुस्लिम समुदाय में निकाह चल रहे हैं। गोरखपुर में लाकडाउन की वजह से कई लोगों की शादी का कार्यक्रम टल चुका है।

  • चाय पंचायत टीम

Leave a Reply