मेडिकल के हर क्षेत्र में नर्सिंग स्टॉफ की जरूरत, नौकरी की नहीं कोई कमी

0
1367

गोरखपुर। गंगोत्री देवी स्कूल ऑफ नर्सिंग एंड पैरामेडिकल में फ्रेशर पार्टी का आयोजन शनिवार को किया गया। उत्साह, उमंग और जोश के साथ सभी ने एकजुट होकर कार्यक्रम का लुत्फ उठाया। कोरोना काल में खुले कॉलेज में फ्रेशर्स का जमकर वेलकम किया गया। इस दौरान जीएनएम और फिजियोथेरेपी की विभिन्न कक्षाओं में अधिक अंक हासिल करने छात्राओं को भी सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि समाजसेवी रीना त्रिपाठी, विशिष्ट अतिथि सुधा मोदी, ऐश्वर्या पांडेय रहीं। कार्यक्रम की अध्यक्षता, कॉलेज के व्यवस्थापक आशुतोष मिश्र ने की। नर्सिंग कॉलेज की प्राचार्य लोरिटा याकूब ने उनको सम्मानित किया। मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण और दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। छात्राओं ने गणेश वंदना और स्वागत गीत प्रस्तुत किया।

नर्सिंग सेवा का सामाजिक अनुबंध, जॉब की असीम संभावनाएं
प्रथम वर्ष की प्रशिक्षु छात्राओं ने कैटवॉक किया। गीत और संगीत से मन मोह लिया। शालिनी मौर्या को मिस फ्रेशर के खिताब से नवाजा गया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि रीना तिवारी ने गंगोत्री देवी स्कूल ऑफ नर्सिंग एंड पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट की तरफ से आयोजित फ्रेशर पार्टी और प्रतिभा सम्मान कार्यक्रम को बेहतरीन बनाने के सभी की सराहना की। उन्होंने जीएनएम प्रथम, द्वितीय और तृतीय वर्ष, फिजियोथिरेपी की स्टेट मेडिकल की परीक्षा में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए सभी छात्र—छात्राओं, प्रिंसिपल और कॉलेज स्टाफ को बधाई दी। उन्होंने कहा कि मेडिकल का कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है जहां आप नर्सों की जरूरत न हो। सेवा करने का जज्बा है तो इस क्षेत्र में अपना बेहतरीन करियर बना सकते हैं। एक मां अपने बीमार बच्चे की देखभाल करती है, ठीक उसी प्रकार नर्स भी मां के रूप में काम करती है, लेकिन इन्हें सिस्टर कहने का प्रचलन है। आज के हेल्थ केयर सिस्टम में नर्से् महत्वपूर्ण जीवनदायनी भूमिका निभा रही हैं। आजकल जितनी तेजी से हेल्थकेयर सेंटरों का विकास हो रहा है। उससे असीम संभावनाओं के द्वार खुलने लगे हैं।

हेल्थ फिटनेस के प्रति बढ़ती जागरूकता के मद्देनजर नर्सिंग प्रोफेशनल्स के लिए अवसरों की कोई कमी नहीं है। ऐसे बहुत ही कम प्रोफेशन हैं जो सीधे-सीधे सेवा, सत्कार और देखभाल से जुड़े हुए हैं। नर्सिंग सेवा का सामाजिक अनुबंध होता है, जिसमें जीवन की रक्षा के गम्भीर उत्तरदायित्व शामिल होते हैं। धैर्य और अनुशासन के दायरे में रहते हुए नर्स को टीम भावना के तहत काम करना होता है। डॉक्टरों की भांति यह काम भी परिश्रम और समर्पण की मांग करता है। मरीजों की देखभाल को न सिर्फ ड्यूटी, बल्कि आत्मिक रूप से भी स्वीकार करने की जरूरत होती है जिसमें देर रात तक जाग कर मरीजों की देखभाल करना भी शामिल होता है।


— गंगोत्री देवी स्कूल ऑफ नर्सिंग एंड पैरामेडिकल में फ्रेशन पार्टी
— अधिक अंक पाने वाली छात्राओं को सम्मानित कर बढ़ाया उत्साह

एप डाउनलोड कीजिए हो जाएगी शादी

कामयाबी के लिए लक्ष्य निर्धारण जरूरी
विशिष्ट अतिथि सुधा मोदी और ऐश्वर्या पांडेय ने नर्सिंग प्रशिक्षुओं को शुभकामना दी। व्यस्थापक आशुतोष मिश्र ने नर्सिंग औऱ फिजियोथेरेपी के छात्राओं को सफलता के टिप्स दिए। उन्होंने कहा कि जिंदगी में कामयाब होने के लिए लक्ष्य निर्धारित कर उस पर लगातार काम करना होता है। हम कई प्रकार की गलतियां भी कर देते हैं जिन्हें सुधारते हुए आगे बढ़ने बेहतरी होती है। हार इंसान को बहुत कुछ सिखाती है। अपनी गलतियों को सुधारते हुए लक्ष्य की ओर लगातार बढ़ते रहने पर ही कामयाबी हासिल होती है। कार्यक्रम में प्रमुख रुप से आर वाशिंगटन, श्वेता रावत, सत्या शर्मा, नीतू यादव, एलिशा, आराधना यादव, देवेंद्र चौधरी, नवी मोहम्मद सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply