सीएम ने किया रो​बोटिक ट्राली का उद्घाटन, मरीजों को पहुंचाएगी भोजन और दवाई

0
347

गोरखपुर। ललित नारायण मिश्र रेलवे चिकित्सालय के कोरोना वार्ड में एडमिट मरीजों को रोबोटिक ट्राली दवा और खाने का सामान पहुंचाएगी। रविवार को सीएम योगी आदित्यनाथ ने कांटेक्टलेस रिमोट आपरेटिंग रोबोटिक ट्राली का शुभारंभ किया। इस ट्राली की मदद से कोरोना से संक्रमित मरीज, डॉक्टर्स और कर्मचारियों के बीच कोई कांटेक्ट नहीं होगा। सोशल डिस्टेसिंग को मेंटेन करने के लिए रोबो ट्राली जहां कारगर होगी। वहीं पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट (पीपीई) के खपत में भी कमी आएगी। सीएम योगी आदित्यनाथ रेलवे हॉस्पिटल में कोविड वार्ड का निरीक्षण करने पहुंचे थे।

रेलवे के मैकेनिकल वर्कशॉप में बनी ट्राली
बहुपयोगी कांटेक्टलेस ट्राली का निर्माण रेलवे के यांत्रिक कारखाना में किया गया है। रोबोटिक ट्राली (केयर बाॅट) आतंरिक संसाधनों से विकसित करके इसे मरीजों की सेवा में उपयोग में लाया जा रहा है। रेलवे से जुड़े लोगों का कहना है कि ट्राली की मदद से सोशल डिस्टेसिंग बनी रहेगी। ट्राली एक बार में कोरोना मरीजों को दवा और खाने का सामान स्वच्छता के साथ पहुंचा सकेगी। इस ट्राली में लगे उपकरण (थर्मल स्कैनर) से मरीजों बुखार दूर से भी नापा जा सकेगा। इस ट्राली में 360 डिग्री एचडी विजन ऐप आधारित क्लाउड कैमरा लगा हुआ है। कैमरे की मदद से डाक्टर, मरीजों से वीडियो कालिंग करके प्रॉब्लम जान सकेंगे। 25 मीटर रेंज वाली यह रोबोटिक ट्राली एक बार पूरी तरह चार्ज होने पर 120 मिनट तक लगातार काम कर सकती है। ट्राली 50 किलोग्राम का वजन उठाने में सक्षम है। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि मरीजों के चिकित्सा प्रबंधन में इससे काफी सुविधा होगी तथा सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहेगी।

रोबोटिक ट्राली से होगा ये काम
– ट्राली की मदद से सोशल डिस्टेसिंग का पालन होगा।
– ट्राली में लगे थर्मल स्कैनर से मरीजों का बुखार नापा जा सकेगा।
– ट्राली के जरिए एक साथ दवा और खाने का सामान मरीजों तक पहुंचेगा।
– ट्राली में लगे कैमरों की मदद से डॉक्टर और मरीज के बीच वर्चुअल बात हो सकेगी।
– एक बार चार्ज होने पर ट्राली करीब दो घंटे तक लगातार काम करेगी।
– 50 किलो का वजन उठाने में सक्षम ट्राली की मदद से उपचार में आसानी होगी।

रेलवे अस्पताल में मौजूद सुविधाएं
– रेलवे अस्पताल में दो सौ बेड कोविड लेवल— 1 की सुविधा है।
– इसमें कुल 563 मरीजों का उपचार करके डिस्चार्ज किया जा चुका है।
– हॉस्पिटल में कोविड लेवल-2 के 25 बेड की सुविधाएं भी उपलब्ध हैं।
– 25 बेड में नौ वेंटिलेटर और अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध कराई गई है।


एम्स का किया निरीक्षण, दिए निर्देश
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रेलवे अस्पताल के साथ—साथ एम्स का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने आवश्यक सुविधाओं पर जोर देते हुए तत्परता के साथ मरीजों को सेवा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। एम्स के डाइरेक्टर ने सीएम को बताया कि 15 दिनों से एक माह के भीतर कोविड— 19 का हॉस्पिटल तैयार हो जाएगा।

बाढ़ का हवाई सर्वेक्षण कर बुलाई मीटिंग
गोरखपुर आए सीएम ने गोरखपुर और संतकबीर नगर जिलों में बाढ़ से प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। बाढ़ प्रभावित जगहों पर सीएम ने तत्काल राहत और बचाव शुरू करने का निर्देश दिया। सिंचाई विभाग के अधिकारियों को उन्होंने कड़ी हिदायत दी कि एक भी बंधा टूटना नहीं चाहिए। आवश्यकत पड़ने पर रात में भी बंधों पर सुरक्षा संबंधी काम किए जाएं। एमपी पालीटेक्निक के हैलीपैड से हवाई सर्वेक्षण पर निकले सीएम ने खाद कारखाना, जंगल कौड़िया में फोरलेन निर्माण कार्य, गाहासाड़, सहजनवां सहित अन्य जगहों पर बाढ़ का हवाई सर्वेक्षण किया। निरीक्षण के बाद सर्किट हाउस लौटकर उन्होंने बाढ़ संबंधित मीटिंग की। इस दौरान कमिश्नर, डीएम, सिंचाई विभाग के अधिकारी सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply