ग्राहक बनकर भालोटिया पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट, 39 हजार में बिक रहा था 3685 रुपए का इंजेक्शन, कैंट थाना में दर्ज कराई एफआईआर

0
1182

गोरखपुर। पूर्वांचल की थोक दवा मंडी में शुमार भालोटिया मार्केट के कालाबाजारियों पर प्रशासन की निगाहें टेढ़ी हुई हैं। देर से ही सही, लेकिन अधिकारियों ने शिकायतों को संज्ञान लेते हुए कार्रवाई शुरू कर दी है। मंगलवार को कालाबाजारी की जांच करने सिटी मजिस्ट्रेट अभिनव रंजन श्रीवास्तव पहुंचे। ब्लैक फंगस के उपचार में इस्तेमाल की जाने वाले इंजेक्शन की कीमत जानकर वह चौक गए। 3685 रुपए एमआरपी का इंजेक्शन देने के लिए दुकानदार ने 39 हजार की बोली लगाई। सच्चाई सामने आने पर सिटी मजिस्ट्रेट ने दवा के काले कारोबार में शामिल दुकानदार और एक एमआर के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश ड्रग इंस्पेक्टर को दिया। सभी के खिलाफ कैंट थाना में मुकदमा दर्ज कराकर आगे की जांच की जा रही है।

इंजेक्शन देने पहुंचा, हिरासत में ले गई टीम
कोरोना संक्रमण में भालोटिया मार्केट के कुछ दुकानदार जमकर कालाबाजारी कर रहे हैं। इंजेक्शन, दवा, आक्सीमीटर, सिलिंडर रेगुलेटर सहित अन्य चीजों की मनमानी कीमत वसूल रहे हैं। लगातार आ रही शिकायतों को देखते हुए जिला प्रशासन ने जांच शुरू की है। मंगलवार को भालोटिया मार्केट के अंश मेडिकल एजेंसी पर ब्लैक फंगस के उपचार में इस्तेमाल वाले इंजेक्शन के महंगे दाम पर बिकने की सूचना किसी ने सिटी मजिस्ट्रेट को दी। हकीकत जानने के लिए खरीदार बनकर सिटी मजिस्ट्रेट खुद पहुंच गए। उन्होंने दुकान पर गुलरिहा इलाके के मोगलहा निवासी संदीप शाही ने इंजेक्शन दिलाने को कहा। संदीप ने बताया कि दवा कंपनी के एमआर राहुल पांडेय इंजेक्शन उपलब्ध कराते हैं। ऑर्डर देने पर ले आएंगे। जाल बिछाकर सिटी मजिस्ट्रेट ने एमआर को रंगेहाथ दबोच लिया। शाहपुर इलाके के राप्ती नगर निवासी एमआर राहुल पांडेय, मेडिकल एजेंसी के कर्मचारी संदीप शाही को हिरासत में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी गई। सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि दुकान सुमेर सागर पर रहने वाले अमित कुमार जायसवाल की है।

कालाबाजारी में बदनाम हुआ भालोटिया मार्केट
कोविड काल में भालोटिया मार्केट के कुछ दुकानदारों ने इसकी साख गिरा दी। भालोटिया मार्केट में कोविड के उपचार में इस्तेमाल होने वाली चीजों को जमकर ब्लैक किया गया। कम उपलब्धता के बहाने दुकानदारों ने लोगों से हजारों रुपए वसूले। लगातार शिकायत मिलने पर जिला प्रशासन ने कार्रवाई शुरू की। मार्केट में कालाबाजारी की शुरूआत आक्सीमीटर से हुई। दुकानदारों ने सात—आठ सौ रुपए में मिलने वाले आक्सीमीटर का तीन गुना दाम वसूल लिया। सस्ते वाले चाइनीज आक्सीमीटर को महंगा बताकर जमकर बेचा। आक्सीजन सिलेंडर के रेगुलेटर की मनमानी कीमत वसूली गई। रेमेडिसीवर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग से भी पैसा कमाया। अन्य जरूरी दवाओं की शार्टेज दिखाकर ग्राहकों को चूना लगाया गया। इस चक्कर में भालोटिया मार्केट की साख खराब हुई। कालाबाजारियों ने इसे बदनाम कर दिया।

इनकी हो रही कालाबाजारी
— ब्लैक फंगस के उपचार का इंजेक्शन
— आक्सीमीटर
— आक्सीजन सिलिंडर रेगुलेटर
— नेबुलाइजर मशीन
— रेमडिसीवर इंजेक्शन

ज्यादा पैसे मांगने पर यहां दें सूचना
कोविड मरीजों, उनके परिजनों से किसी भी दवा, सामान और जरूरत की चीजों का अधिक दाम मांगने की शिकायत करने के लिए पुलिस ने हेल्प लाइन नंबर जारी किया है। कोई भी व्यक्ति कालाबाजारी की सूचना देकर पुलिस—प्रशासन की मदद कर सकता है। इसलिए इन नंबरों को प्रचार भी कराया जा रहा है।

मोबाइल नंबर — 9454403527, 9454417470
व्हाट्सएप नंबर— 7839865731, 9454458118
कंट्रोल रूम— डॉयल 112

पुलिस— प्रशासन ने की अब तक ये कार्रवाई

18 मई 2021: भालोटिया मार्केट में ब्लैक फंगस का इंजेक्शन महंगे दाम पर बेच रहे एमआर और दुकानदार को पकड़ा। कालाबाजारियों के खिलाफ कैंट थाना में मुकदमा दर्ज कराया गया।

17 मई 2021: मोगलहा से मेडिकल कॉलेज तक जाने के लिए कोविड मरीज के परिजनों से एंबुलेंस ड्राइवर ने तीन हजार रुपए वसूल लिए। एक किलोमीटर की दूरी का इतना भाड़ा लेने पर परिजनों ने गुलरिहा थाना में मुकदमा दर्ज कराया।

15 मई 2021: गीडा के सेक्टर 15 स्थित आरके आक्सीजन फैक्ट्री में अवैध तरीके से आक्सीजन सिलिंडर भरवाने के आरोप में केस दर्ज हुआ। गीडा पुलिस ने बड़हलगंज के हॉस्पिटल संचालक के खिलाफ कार्रवाई की। एसडीएम की जांच में सिलिंडर छोड़कर कुछ युवक भाग गए थे।

13 मई 2021: दाउदपुर से मरीज को मेडिकल कॉलेज ले जाने के लिए एंबुलेंस ड्राइवर ने पांच हजार रुपए लिए। तीन हजार रुपए में तय करके वह मेडिकल कॉलेज के लिए चला। रास्ते में दो हजार रुपए की मांग की। पैसे न देने पर उतारने की धमकी दी। ​परिजनों की सूचना पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया।

11 मई 2021: धर्मशाला बाजार में नर्सिंग होम से इंजेक्शन चुराकर बेचने वाले दो कर्मचारी पकड़े गए। दोनों कर्मचारी रेमडिसीवर इंजेक्शन को महंगे दामों पर बेचते थे। 18 हजार रुपए कीमत पर दो इंजेक्शन देने पहुंचे। उसी समय ड्रग इंस्पेक्टर ने पुलिस की मदद से उनको पकड़ लिया।

11 मई 2021: राजेंद्र नगर स्थित अंबे ट्रेडर्स पर सिटी मजिस्ट्रेट ने छापा मारा। यहां पर छह से सात हजार रुपए का आक्सीजन सिलिंडर 25 से 40 हजार रुपए में बिकने की सूचना किसी ने दी थी। अनाधिकृत रूप से चल रहे चल कारोबार का दावा करते हुए टीम ने 80 सिलिंडर बरामद किया।

भालोटिया मार्केट के कई कारोबारी राडार पर हैं। उनको रंगेहाथ पकड़कर बेनकाब किया जाएगा। कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ सख्ती बरती जाएगी।
अभिनव रंजन श्रीवास्तव, सिटी मजिस्ट्रेट

Leave a Reply