कोरोना: घर में बच्चों का रखें ख्याल, बना हुआ है संक्रमण का खतरा

0
786

गोरखपुर। कोरोना का संक्रमण बढ़ता जा रहा है। बावजूद इसके तमाम लोग अपने बच्चों को लेकर गंभीर नहीं हैं। वह बच्चों को साथ लेकर बाजार रहे हैं। इस दौरान ना तो लोग बच्चों को मास्क पहना रहे। ना ही उनकी सुरक्षा को लेकर आवश्यक कदम उठा रहे। ऐसे में बच्चों के लिए कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा लगातार बना हुआ है। डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर बच्चों के लिए ज्यादा खतरनाक साबित हो रही है। अब तक मिले संक्रमण में करीब 15 फीसदी बच्चे संक्रमित हुए हैं। लेकिन अच्छी बात यह है कि 99 फीसदी बच्चे घर पर ही उचित देखभाल में स्वस्थ हो गए। डॉक्टरों का कहना है कि बच्चों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। वायरस का असर इस बार इन पर ज्यादा है।

पांच साल से छोटे बच्चों पर दें ज्यादा ध्यान
डॉक्टरों का कहना है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों और शिशुओं पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। अगर किसी भी बच्चे को सर्दी-खांसी या बुखार है। तो पूरा अहतियात बरतिए। उसकी केस हिस्ट्री पर ध्यान दीजिए। बच्चे को सर्दी-खांसी की शिकायत पहले भी होती रही है, इस दौरान यदि बच्चा कहीं बाहर नहीं गया है। किसी बाहरी व्यक्ति से मिला नहीं है। घर का कोई सदस्य कहीं बाहर नहीं गया है या कहीं बाहर की यात्रा से वापस नहीं आया है, तो इससे बच्चे को कोरोना वायरस होने की आशंका कम है। बच्चों को कतई बाहर न जाने दें। लाक डाउन मानकर खुद भी घर में रहें।

इस तरह से करें बचाव
— घर में हर व्यक्ति अपने हाथों को हमेशा साफ रखें और मास्क का इस्तेमाल करें।
— अपने बच्चों को किसी के साथ खेलने न दें।
— घर में अगर बुजुर्ग हैं और किसी को सर्दी-खांसी है तो उनसे भी दूरी बनाना जरूरी है।
— बच्चों को पोषक तत्वों वाले आहार खिलाएं। बीच—बीच में पानी पिलाते रहें।
— सुबह के समय बच्चों और गर्भवती महिलाओं संग 30 मिनट तक धूप में बिताएं
— नवजात और छोटे बच्चों को छूने के पहले अपने हाथों की अच्छी तरह से सफाई करें।
— छूने वाली सभी जगहों की सफाई पर ध्यान दें। बड़े बच्चों को साफ—सफाई और एक्सराइज करने पर जोर दें।

Leave a Reply