सीएम के जिले में सपाई दिखा रहे तेवर, शुरू हुई प्रदेश सरकार की घेराबंदी

0
682

गोरखपुर। सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद में कानून— व्यवस्था लेकर सपाई तेवर में हैं। घटना छोटी हो या बड़ी सभी जगहों पर सपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल पहुंच रहा। पिपराइच के मिश्रौलिया में महाजन गुप्ता के बेटे बलराम के अपहरण और मर्डर कांड पर जहां सपा ने प्रदेश सरकार और कानून व्यवस्था को लेकर घेरा। वहीं बेलघाट के कुरी बाजार में डीजे के के विवाद को लेकर पब्लिक पर पुलिस की ज्यादती का आरोप लगाया। युवकों की पिटाई और जेल भेजने के मामले में एसएसपी डॉ. सुनील गुप्ता ने कुरी बाजार के चौकी इंचार्ज को हटा दिया। इसके पहले उन्होंने बेलघाट के एसओ बीबी राजभर को हटाया था। प्रतिनिधिमंडल ने घटना के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहराया। हालांकि इसके पहले खजनी के विधायक संत प्रसाद ने भी पब्लिक के पक्ष में अपनी बात रखी थी।

चूक से बढ़ेगी पुलिस की मुश्किल,​​ घिरेगी राज्य सरकार
गोरखपुर, सीएम योगी आदित्यनाथ का गृह जनपद है। यहां के हर मूवमेंट पर विपक्ष की नजर है। मुख्य विपक्षी पार्टी के रूप में सपा के लोग लामबंद होकर हर मुद्दे पर मुखर होने लगे हैं। गोरखपुर से जुड़े लोगों का कहना है कि सीएम योगी आदित्यनाथ का जिला होने की वजह से यहां की गतिविधियां पूरे प्रदेश में मिसाल बनती हैं। इसलिए यहां होने वाली हर घटना पर लोगों की निगाहें टिकी हैं। जुलाई माह ही में आधा दर्जन से अधिक मामलों में सपा नेताओं ने प्रदेश सरकार और गोरखपुर पुलिस—प्रशासन के अधिकारियों की घेराबंदी की है।

पिपराइच में बच्चे के अपहरण, हत्या को लेकर किए सवाल
29 जुलाई को सपा का प्रतिनिधिमंडल पिपराइच थाना के मिश्रौलिया में महाजन गुप्ता से मिलने पहुंचा। उनके बेटे बलराम गुप्ता के अपहरण और हत्या पर गहरा शोक जताते हुए परिजनेां को सांत्वना दी। साथ ही सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की तरफ पीड़ित परिवार को दो लाख रुपए की आर्थिक सहायता से संबंधित आरटीजीएस की रसीद परिजनों को सौंपा। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के हवाले से निवर्तमान मीडिया प्रभारी राजू तिवारी ने जानकारी दी। बताया कि अखिलेश जी ने कहा है अपनी विफलता पर पर्दा डालने के लिए मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवार को पांच लाख रुपए की सहायता दी।

कुरीबाजार में पुलिस पर लगाया उत्पीड़न का आरोप
29 जुलाई को ही सपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने खजनी विधानसभा के कुरी बाजार का दौरा किया। अनुसूचित जाति के परिवार के बच्चे के मुंडन में डीजे बजाने को लेकर चौकी इंचार्ज सहित अन्य पुलिस वालों पर गंभीर आरोप लगाए। प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने कहा कि पुलिस ने महिलाओं और बच्चों की बर्बर पिटाई की है। उल्टे गांव के लोगों पर मुकदमा भी दर्ज किया गया। ऐसे पुलिस वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। सपा नेताओं ने एसएसपी से चौकी प्रभारी को हटाने की मांग की। इसके कुछ ही घंटों के बाद एसएसपी ने चौकी इंचार्ज को लाइन हाजिर कर दिया। प्रतिनिधि मंडल में सपा जिलाध्यक्ष नगीना साहनी का कार्यभार देख रहे जिला उपाध्यक्ष मुन्नी लाल यादव, रजनीश यादव, प्रह्लाद यादव, अखिलेश यादव, रुपावती बेलदार सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

सौरभ विश्वकर्मा पर मुकदमे से सपा नेताओं में आक्रोश
राजघाट थाना में सौरभ विश्वकर्मा के खिलाफ उत्पीड़न करने का मुकदमा एक दंपति ने दर्ज कराया है। सपा नेताओं ने इसे फर्जी और मनगढ़त बताते हुए उत्पीड़न का आरोप लगाया है। 28 जुलाई को सपा नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने एसपी सिटी डॉ. कौस्तुभ से मुलाकात की। जिला उपाध्यक्ष मुन्नीलाल यादव एडवोकेट के साथ पहुंचे प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि वार्ड नंबर 63, मिर्जापुर के पार्षद सौरभ विश्वकर्मा ने एक विधवा महिला सुनीता अग्रहरी का जलकल कनेक्शन करा दिया था। यह बात कुछ भाजपा नेताओं को नागवार गुजरी। इससे खुन्नस खाए भाजपा नेता ने अपने दबाव से राजघाट थाना में फर्जी मुकदमा दर्ज करा दिया। सपा नेताओं ने एसपी सिटी से कहा कि पार्षद का उत्पीड़न हो रहा है। उनकी बात सुनकर एसपी सिटी ने निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया।

Leave a Reply