योगी हैं तो यकीन है: यूपी में बनेगी दुनियां की सबसे खूबसूरत फिल्म सिटी

0
251

मुंबई/ लखनऊ/ गोरखपुर। यूपी के गौतमबुद्धनगर में दुनिया की सबसे खूबसूरत फिल्म सिटी बनेगी। यमुना एक्सप्रेसवे अथॉरिटी की 1000 एकड़ भूमि पर बनने वाली इस फिल्म सिटी में फिल्म निर्माण की सारी आधुनिक सुविधाएं मौजूद रहेंगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश में अधूरा कुछ भी नहीं है। उनकी सरकार दुनिया को पूर्ण फिल्म सिटी का उपहार देगी। सीएम ने कहा कि हम कंटेंट डिस्ट्रीब्यूशन के लिए स्मूथ और फूलप्रूफ व्यवस्था के साथ-साथ टैक्स छूट की सुविधा पर भी विचार कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने मंगलवार को फिल्म उद्योग की हस्तियों के बीच इस बात का ऐलान किया। फिल्मकारों ने इसे मुख्यमंत्री की बड़ी पहल बताते हुए कहा कि वे इसके लिए हर संभव सहयोग करेंगे। मुख्यमंत्री सिनेमा जगत की बड़ी हस्तियों से मुखातिब हुए। इनमें अनुपम खेर, परेश रावल, उदित नारायण, नितिन देसाई, कैलाश खेर, अनूप जलोटा, अशोक पंडित और सतीश कौशिक सहित कई लोग शामिल थे। मुख्यमंत्री ने उनसे खास तौर पर फिल्म सिटी के स्वरूप पर चर्चा की। उनसे सीधा संवाद किया और उनकी राय जानी। सीएम ने कहा कि 50 साल की जरूरतों को ध्यान में रखकर होगा फिल्म सिटी का विकास होगा।

यूपी में बनने जा रही दुनिया की आधुनितम फिल्म सिटी में वह सारी सुविधाएं होंगी, जो बड़े स्केल वाली फिल्मों के निर्माण के लिए जरूरी होंगी। यह फिल्म सिटी दुनियां भर में यूपी पहचान बनाएगी। राज्य को पर्यटन के लिहाज से उसकी खास ब्रांडिंग भी होगी। मुख्यमंत्री के सामने फिल्म सिटी पर एक प्रस्तुतिकरण पेश किया गया। तय योजनाएं मूर्त रूप लेंगी। राज्यवार गांव के सेट भी तैयार होंगे। इसमें स्टेट आफ आर्ट स्टूडियो, प्री प्रोडक्शन व पोस्ट प्रोडेक्शन सुविधाएं होंगी। स्पेशल इफेक्टस स्टूडियो बनेंगे। इसमें फिल्म विश्वविद्यालय होगा। यही पर एक हेलीपैड बनाया जाएगा। इसमें छोटे बड़े हेलीकाप्टर लैंड कर सकेंगे। फिल्म,टेलीविजन कार्यक्रम, रेडियो कार्यक्रम, विज्ञापन, ऑडियो रिकार्डिंग, फोटोग्राफी व डिजिटल आर्ट की सुविधा होगी। मेकअप रूम, स्टोर रूम भी होंगे। मंदिर, चर्च, गुरुद्वारा, बस स्टॉप, एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, झरने, बाग, पुलिस स्टेशन, जेल, अदालत, चाल, अस्पताल, पेट्रोल पंप, दुकाने, शहर गांव सभी बनाए जाएंगे।

फिल्म संग्रहालय
इसमें विश्वस्तरीय बालीवुड संग्रहालय होगा। भारतीय सिनेमा को विस्तृत आयाम को शोकेस किया जाएगा। दुर्लभ विशिष्ट फिल्मों का संग्रह, प्रदर्शन होगा। साथ ही फिल्म निर्माण प्रक्रिया व प्रसिद्ध स्टूडियों को प्रदर्शित किया जाएगा।

फिल्म विश्वविद्यालय
निर्देशन, स्किप्ट राइटिंग, सिनमेटोग्राफी, एनिमेशन, साउंड रिकार्डिंग, एडटिंग व प्रोडेक्श्न डिजाइन के पाठ्यक्रम संचालित होंगे।

फन एवेन्यू
रिटेल, फूड कोर्ट, एम्पीथियेटर, दर्शक गैलरी, रेस्ट रूम, मल्टीलेवल पार्किंग

होटल और कंन्वेशन सेंटर
इसमें फाइव स्टार, थ्री स्टार व बजट होटल होंगे। कन्वेशन हाल व डारमेट्री भी बनेगी। क्लब हाउस बनेंगे।

पांच प्रमुख जोन
– प्रवेश द्वार व कार्यालय
– शूटिंग एरिया व आवासीय
– थीम पार्क व आउटडोर लोकेशन्स
– फिल्म विश्वविद्यालय व स्टूडियो रूम
– एयरपोर्ट

यूपी में फिल्म सिटी पर क्या बोले अभिनेता
अनुपम खेर,अभिनेता– आज का मौका उत्सव का है। योगी जी की क्षमता पर सभी को भरोसा है। यूपी की फ़िल्म सिटी यूपी में तो होगी लेकिन पूरी दुनिया इसे अपना मानेगी। यह ताजमहल की तरह ही दुनिया भर को आकर्षित करने वाली हो। इसकी स्थापना की पहली बैठक में आमंत्रित कर योगी जी ने हमें इतिहास में दर्ज कर दिया। योगी जी के इस सपने को साकार करने में अगर मैं भी भागीदार हो सका तो यह मेरा सौभाग्य होगा।

परेश रावल, चेयरमैन नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा– बहुत स्वागतयोग्य कदम है। योगी जी यह स्वप्न पूरा भी करेंगे, मुझे विश्वास है। फ़िल्म पटकथा लेखन को लेकर योगी जी कोई प्रयास करें तो बहुत सहायता मिलेगी। यह रीजनल सिनेमा को भी पुनर्जीवन देने वाला आयाम सिद्ध होगा।

राजू श्रीवास्तव, अध्यक्ष उत्तर प्रदेश फ़िल्म बन्धु– मुझे हर्ष है कि योगी जी ने फ़िल्म जगत को नया विकल्प देने की दिशा में कोशिश की है। यह छोटे-छोटे शहरों की अद्भुत प्रतिभाओं के हौसलों, सपनों को पंख देने वाला होगा। मैं हर समय, पूरी क्षमता के साथ सेवा के लिए प्रस्तुत रहूंगा। योगी जी को आभार, अभिनन्दन।

मनोज जोशी, अभिनेता- अद्भुत और अनुपम प्रयास है। पंजाबी, बंगाली, हिंदी, सहित 12 भारतीय भाषाओं के फिल्मोद्योग का महाद्वार होगी यह फ़िल्म सिटी। इसे इको-फ्रेंडली बनाने की कोशिश हो। आज ओटीटी प्लेटफार्म पर हिंदी पट्टी की कहानियां छायी हुई हैं। आज 70 फीसदी टेक्नीशियन उत्तर प्रदेश के हैं। रंग कर्म में यूपी अत्यंत समृद्ध है। इन सभी को ‘आत्मनिर्भर’ बनाने में यह नवीन फ़िल्म सिटी अत्यंत उपयोगी हो सकती है। यह प्रदेश के औद्योगिक, पर्यटन विकास को नई दिशा प्रदान करने वाली होगी।

अनूप जलोटा, गायक– बहुत अभिनन्दनीय प्रयास है। इसके लिए पूरी दुनिया के फ़िल्म सिटीज का अध्ययन किया जाना चाहिए। उनकी खूबियों, कमियों को समझना चाहिए। आवश्यकताओं के लिहाज से सुविधाएं दी जाएं। यह दुनिया के लिए महत्वपूर्ण प्रयास है। मेरी शुभकामनाएं।

कैलाश खेर, गायक– आज जब योगी स्वयं नेतृत्व कर रहे हैं, तो कोई भी कार्य असाध्य नहीं है।दुनिया में फ़िल्म सिटी के नाम पर लाखों किले खड़े हैं, लोगों ने 70 साल में क्या हाल कर दिया कि घिन आती है, शर्म आती है। उत्तर प्रदेश देवताओं की पुण्य भूमि है। दुनिया को राह दिखाने वाली है। योगी जी की यह दुनिया भारतीय संस्कृति को पोषित करने वाली हो। कला साधकों को सम्मान मिले। ऐसा जरूर होगा, यह मेरा विश्वास है। बाकी योगी जी आदेश करें, हम धावक हैं दौड़ पड़ेंगे।

सतीश कौशिक, निर्माता निर्देशक– यूपी शूटिंग फ्रेंडली जगह रही है। मैंने बहुत काम किया है यहां। आज का दिन पूरी दुनिया के कला क्षेत्र के लिए ऐतिहासिक है। योगी जी फ़िल्म जगत को एक नवीन विकल्प दे रहे हैं। आज जो प्रेजेंटेशन दिखाया गया, वह हमें एक बेहतर भविष्य की छवि दिखा गया। आपने हम कलाकारों को एक नया आधार दिया है। यूपी की संस्कृति ने भारतीय फिल्मों को शुरू से ही प्रभावित किया है, अब यहां की फ़िल्म सिटी पूरी दुनिया को प्रभावित करेगी। मेरी बहुत शुभकामनाएं, योगी जी को बहुत धन्यवाद।

उदित नारायण, पार्श्व गायक– योगी जी ने बहुत कम समय में बहुत खूबसूरत काम किया है। ऐसे में फ़िल्म सिटी की घोषणा से हम सभी का उत्साहित होना लाजिमी है। मैं 40 साल फ़िल्म जगत का हिस्सा रहा हूँ। योगी जी के इस बड़े सपने को साकार करने में अगर मैं भी कुछ योगदान कर सका तो जीवन को धन्य समझूंगा।

Leave a Reply