धर्म की रक्षा करना हम सभी का कर्तव्य : आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी

0
17

–  गोरखपुर में आयोजित हुआ भव्य कार्यक्रम, मौजूद रहे 40 से अधिक संगठनों के लोग

– कला और संस्कृति के संरक्षक रहे हैं किन्नर, देशभर में परपंराओं को सहेज रहा किन्नर अखाड़ा

चाय पंचायत, संवाददाता गोरखपुर।

किन्नर समाज में धर्म-जाति की दीवारें नहीं होतीं। हमारे यहां हिन्दू समाज में किन्नरों को पहले अपनाया नहीं गया, इसलिए इसमें इस्लाम का बहुत प्रभाव रहा। जब सिंहस्थ में किन्नरों के अखाड़े को मान्यता मिली और मैं महामंडलेश्वर बनी तब से बहुत परिवर्तन आया है। समय के साथ बदलाव होता है। हम किन्नर इसी समाज के हिस्सा है, इसलिए समाज की मुख्यधारा से जुड़ना बहुत जरूरी है। पहले किन्नर की क्या स्थिति हुआ करती थी, पर आज समाज मे इनके प्रति लोगो की धारणा बदली है। लोग बहुत कुछ बोलते थे, पर मैं कर्म करती रही और आज मैं आचार्य महामण्डलेश्वर हुई, इसलिए हमें अपने कर्म में विश्वास करना चाहिए और अपने कर्म को पूरी श्रद्धा व लगन से करते रहना चाहिए। यह कहना है किन्नर अखाड़ा की आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी का जो किन्नर अखाड़ा गोरखपुर तरफ से आयोजित स्वागत और अभिनंदन कार्यक्रम को संबोधित कर रही थीं।

कला और संस्कृति के संरक्षक रहे हैं किन्नर
उन्होंने कहा कि किन्नर कला और संस्कृति के संरक्षक रहे हैं। उनकी परंपराएं हजारों साल पुरानी हैं। किन्नर अखाड़ा अपनी परंपराओं को सहेज और देशभर के किन्नर समाज को जोड़ रहा है।। धर्म की रक्षा करना हम सभी का कर्तव्य है। किन्नर अखाड़ा अपने सम्मान और धर्म ध्वजा लेकर चलने को तत्पर है। किन्नर अखाड़ा की आचार्य महामंडलेश्वर बनने के बाद पहली बार गोरखपुर आईं लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी का जोरदार स्वागत हुआ। आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी गोरखपुर एयरपोर्ट से सीधा गोरखनाथ मंदिर पहुँची जहां उन्होंने गुरु गोरक्षनाथ बाबा का आशीर्वाद लिया। उसके बाद गोलघर काली मंदिर में पूजन-अर्चन कर मां काली का आशीर्वाद लिया। महामण्डलेश्वर कनकेश्वरी नन्द गिरी के नेतृत्व में किन्नर अखाड़ा गोरखपुर के स्वागत और अभिनंदन कार्यक्रम में शहर के विभिन्न सामाजिक, सांस्कृतिक संगठनों और संस्थानों ने उनका भव्य स्वागत किया। मंच पर किन्नर अखाड़ा की प्रदेश अध्यक्ष कौशल्या नन्द गिरी, महामण्डलेश्वर कनकेश्वरी नन्द गिरी, भारती बरनवाल, ममता तिवारी भी मौजूद रहीं।

ब्रह्मलीन महंत नरेंद्र गिरी को दी श्रद्धांजलि
कार्यक्रम में सबसे पहले अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ब्रह्मलीन महंत नरेंद्र गिरी को दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई। संचालन शीतल मिश्र और समरेंद्र सिंह ने किया। किन्नर अखाड़ा गोरखपुर की तरफ से आचार्य महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी का स्वागत किया गया। स्वागत के क्रम में करीब 40 सामाजिक संगठनों ने स्वागत किया। सभी का आभार प्रकट महामंडलेश्वर कनकेश्वरी नंद गिरी ने किया। कार्यक्रम में भजन सम्राट नन्दू मिश्रा, डीके गुप्ता, राकेश कुमार सिंह, भाजपा युवा नेता शीतल मिश्रा, तनिष्क गुप्ता, अमरदीप गुप्ता, नैना सिंह, नेहा मणि आर्या, पुनीत पाण्डेय, शुभम शुक्ला, पर्वतारोही नीतीश सिंह, अनुपम कुमार, रीना जायसवाल, मीना पांडेय, रंजीता बरनवाल, पूजा गुप्ता, आस्था, स्मृति, प्रियंका, किरण, स्वेता, गुड़िया, सरिता, रूबी, काजल, भाजपा नेत्री कुमकुम सिंह, लोकगायक राकेश उपाध्याय, गुरुद्वारा समिति के अध्यक्ष जसपाल सिंह, जगनैंन सिंह नीटू, दीनानाथ सिंह, सौरभ शुक्ला, श्रवण पटेल, पंकज गोयल, अमित दत्त शुक्ला, प्रवीण शास्त्री, अंकित मिश्रा, दुर्गेश त्रिपाठी, विजय श्रीवास्तव सहित कई लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply