अपनी जिम्मेदारियों के निर्वहन से नहीं बच सकती मीडिया : मृत्युंजय कुमार

4
3355

गोरखपुर। समय चाहे कोई रहे मीडिया की भूमिका कम नहीं होगी। अंग्रेजी हुकूमत में अंग्रेजों ने अखबार निकाला लेकिन उसे भी सजा मिली। इसकी केवल और केवल एक वजह है कि मीडिया अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करने से बच नहीं सकती है। यदि आप अपुष्ट या झूठी खबरें देंगे तो आप जवाबदेह होंगे। मीडिया अपने मूल दायित्वों से भटक न जाए, इसके लिए जरूरी है कि पत्रकार को हर चुनौतियों के लिए तैयार रहना होगा।
यह बातें मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने कही। श्री कुमार रविवार को मान्यता प्राप्त पत्रकार समिति द्वारा गोरखपुर क्लब में ‘आज का समय एवं मीडिया की भूमिका’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि अपनी बात रख रहे थे। उन्होंने कहा कि मीडिया का दायित्व हर समय में जिम्मेदारियों भरा रहा है।

व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी से बाहर निकलें पत्रकार: हर्षवर्द्धन शाही
उत्तर प्रदेश के राज्य सूचना आयुक्त हर्षवर्धन शाही ने कहा कि मीडिया अपनी भूमिका का निर्वहन कर रहा है। आज यह विचारणीय है। आज मीडिया पर तरह-तरह के आरोप लग रहे हैं। जरूरी है कि हम अपनी गिरेबा में झांककर देखें कि आखिर हमें तमाम उपाधियां क्यों मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि पत्रकारों को ह्वाट्सएप यूनिवर्सिटी से बाहर निकलना होगा। मेहनत करनी होगी। जब हम किसी घटना की कवरेज करने के लिए मौके पर जाएंगे तो सही खबर बनाएंगे। यदि ह्वाट्सएप की सूचना पर ही विश्वास कर हम खबर बनाएंगे तो कभी-कभी झटका मिल जाएगा। हमें झटके मिल रहे हैं। उन झटकों से उबरने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी। साहस दिखाना होगा। सबसे जरूरी है कि हमें खबर में शत-प्रतिशत सचाई भरने के लिए मौके पर जाना होगा।

समाज को सही दिशा देने की भूमिका निभाए मीडिया: शलभमणि त्रिपाठी
मुख्यमंत्री के सूचना सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि पत्रकारों की भूमिका समाज को बेहतर दिशा देने की है। उन्होंने एक कहानी के हवाले से बताया कि जब जंगल में आग लगी थी कि तो एक चिड़िया अपने चोंच में पानी भरकर ले आती थी और आग बुझाने के लिए गिरा देती थी। वह यह काम बार-बार कर रही थी। एक बंदर ने उस पर व्यंग्य कसा कि तुम्हारे बुझाने से आग नहीं बुझेगी। चिड़िया ने बहुत ही सलीके से जवाब दिया कि जब भी इस जंगल में लगी आग बुझाने का इतिहास लिखा जाएगा तो मेरा नाम आग बुझाने वालों में होगा आग लगाने वालों में नहीं। आज अखबार के स्थानीय प्रभारी अखिलेश चंद्र ने कहा कि आज जमाना इलेक्ट्रानिक्स का है। हमें इस दौर में लगातार सीखने की जरूरत है। इससे पहले विषय प्रर्वनत करते हुए जगदीश लाल श्रीवास्तव ने कहा कि आज सोशल मीडिया से इलेक्ट्रानिक्स मीडिया और प्रिंट मीडिया दोनों के सामने चुनौतियां हैं। सोशल मीडिया का इफेक्ट अलग तरीके से पड़ रहा है। यह संभलकर चलने का समय है। इस दौरान महापौर सीताराम जायसवाल ने कहा कि मीडिया चौथा स्तम्भ है। अपनी भूमिका निभा रहा है। एडीजी जोन अखिल कुमार ने भी अपने विचार रखें।कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार रवींद्र श्रीवास्तव उर्फ जुगानी भाई और संचालन वरिष्ठ पत्रकार शफी आजमी ने किया। इस दौरान नगर विधायक डा. राधा मोहन दास अग्रवाल, डॉ. विमलेश पासवान, एमएलसी सीपी चंद, पूर्व महापौर डा. सत्या पांडेय, मान्यता प्राप्त पत्रकार समिति के अध्यक्ष अरविंद राय, महामंत्री कमलेश सिंह, टीपी शाही, संतोष सिंह, शिवहर्ष द्विवेदी गजेंद्र त्रिपाठी, मुन्नवर रिजवी, मोहम्मद इमरान व विभिन्न सामाजिक संगठनों के लोग मौजूद रहे।

अपर मुख्य सचिव (सूचना) ने दी बधाई
अपर मुख्य सचिव (सूचना) नवनीत सहगल ने वीडियो संदेश के माध्यम से मान्यता प्राप्त पत्रकार समिति को इस आयोजन के लिए बधाई दी। अपने संदेश में उन्होंने कहा कि तकनीकी बदलाव के चलते आज के दौर में मीडिया की परिभाषा और विस्तृत हो गई है और इस बदलाव के परिप्रेक्ष्य में मीडिया की भूमिका और बढ़ गई है। उन्होंने उम्मीद जताई कि यह संगोष्ठी पत्रकारों का वर्तमान समय में मार्गदर्शन करने में सार्थक सिद्ध होगी।

4 COMMENTS

  1. वर्तमान में सोशल मीडिया के सकारात्मक पक्ष को नकारा नहीं जा सकता।

Leave a Reply