आत्मनिर्भरता का आधार और एमएसएमई की जान है ओडीओपी : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

0
34

गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों (एमएसएमई) की जान तथा आत्मनिर्भरता का आधार है। कोरोना काल में कृषि क्षेत्र के बाद प्रदेश की अर्थव्यवस्था में सर्वाधिक योगदान ओडीओपी से जुड़े परम्परागत उद्यमों ने दिया है। सरकार ग्रामीण क्षेत्र में वित्तीय समावेशन के साथ गांव के गरीब, किसान, महिला, नौजवान को जोड़ने का कार्य कर उन्हें आत्मनिर्भर व सशक्त बनाने में जुटी है। पीएम मोदी ने देश की अर्थव्यवस्था को 2024 तक 5 ट्रिलियन यूएस डॉलर का करने का लक्ष्य तय किया है, इसी कड़ी में हमे यूपी को 1 ट्रिलियन यूएस डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाना है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार शाम तारामंडल स्थित महंत दिग्विजयनाथ स्मृति पार्क (नुमाइश ग्राउंड) में आयोजित बड़ौदा यूपी बैंक के वृहद ऋण वितरण शिविर में उपस्थित जनसमूह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि ओडीओपी के जरिए एमएसएमई कम पूंजी पर रोजगार की गारंटी है। इसके स्थानीय स्तर के परिणाम का पूरे प्रदेश में व्यापक सकारात्मक प्रभाव देखने को मिले हैं। बीते चार सालों में प्रदेश सरकार ने 50 लाख एमएसएमई इकाइयों को बैंकों से लोन दिलाकर करोड़ों लोगों को रोजगार से जोड़ने का कार्य किया है। इससे यूपी की अर्थव्यवस्था में व्यापक परिणाम आया है। पहले जहां उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था देश में पांचवें, छठवें स्थान पर होती थी अब दूसरे स्थान पर है। प्रति व्यक्ति आय 45 हजार से बढ़कर 95 हजार पर पहुंच गई है। जल्द ही इस मामले में हम राष्ट्रीय औसत के बराबर होंगे। सीएम योगी ने कहा कि कोरोना काल में गांव लौटे प्रवासी परम्परागत उद्यमों से जुड़कर रोजी रोजगार कर रहे हैं। प्रदेश सरकार भी एमएसएमई क्लस्टर बनाकर इन्हें रोजगार दिलाने का कार्य कर रही है। इस दौरान उन्होंने दिवाली पर टेराकोटा शिल्पकारों के बढ़े व्यवसाय और उनके द्वारा कमाए मुनाफे का भी जिक्र किया। मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में 7 करोड़ से अधिक जनधन खाते खोले गए हैं जिनमे से 17.5 लाख अकेले गोरखपुर में हैं। इससे सरकार की योजनाओं की पूरी रकम का लाभ लोगों को बिना भ्रष्टाचार सीधे उनके खातों में मिल रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज खुशी की बात है कि गोरखपुर, सिद्धार्थनगर, आजमगढ़, कुशीनगर,बलिया, मऊ आदि अनेक जिलों के 5895 लाभार्थियों को सवा तीन सौ करोड़ रुपए का लोन बड़ौदा यूपी बैंक द्वारा दिया जा रहा है। इससे ये लाभार्थी खुद उद्यमी बन कई लोगों को रोजगार भी देंगे। उन्होंने कहा कि बैंकों को इन्हें ट्रेनिंग व बाजार दिलाने की जिम्मेदारी भी उठानी होगी ताकि अपनी पूंजी बढ़ाने के साथ ही ये प्रदेश की अर्थव्यवस्था को नई ऊंचाई पर ले जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बैंकों के सीडी रेशियो में पहले की तुलना में वृद्धि हुई है। हमारा लक्ष्य इसे 75 फीसद तक पर ले जाने का है।

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई जिलों के लाभार्थियों को ऋण प्रमाण पत्र प्रदान करने के साथ उनसे बात कर लोन का सदुपयोग कर खुद और औरों को रोजगार के क्षेत्र में मजबूत करने को कहा। मुख्यमंत्री ने नुमाइश ग्राउंड में लगे दस स्टालों का भी निरीक्षण किया और उद्यमियों द्वारा तैयार उत्पाद और उसके बाजार के बारे में जानकारी लेकर उनका उत्साहवर्धन किया। कार्यक्रम में पूर्व केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री व राज्यसभा सदस्य शिवप्रताप शुक्ल, राज्यसभा सदस्य जयप्रकाश निषाद, नगर विधायक डॉ राधामोहन दास अग्रवाल, बड़ौदा यूपी बैंक के अध्यक्ष देवेंद्र पाल, एमडी शिव सिंह यादव, जीएम ब्रजेश कुमार सिंह, एपी सिंह आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply