साफ्टवेयर से पत्नी की जासूसी, दो लाख में हत्या की सुपारी

0
12624

गोरखपुर। 03 जून की देर शाम पादरी बाजार के स्टर्नपुर मोहल्ले में रहने वाली नायब अली की पत्नी कलीमुनिशा पर गोलियां चलीं। एक ही बाइक से आए ​तीन बदमाश गोली बरसाकर फरार हो गए। फायरिंग से पूरा मोहल्ला कांप उठा। पुलिस को सूचना दी गई। जांच शुरू हुई तो पता लगा कि कुछ दिन पहले एक युवक अपनी प्रेमिका संग किराए पर कमरा लेकर रहने आया। दोनों के बीच विवाद होने पर युवती कमरे में ताला बंद करके चली गई। जाते—जाते मकान मा​लकिन से कह गई कि जब तक मैं ना आउं तब तक कमरे से कोई सामान नहीं निकलेगा। पुलिस को लगा कि इसी कारण महिला पर गोली चली। जबकि असल कहानी कुछ और ही निकली। पति ने ही दो लाख रुपए में पत्नी की हत्या की सुपारी थी। पुलिस ने उसकी योजना पर पानी फेर दिया।

गोली चलाकर भागे तीन बदमाश, बची महिला की जान
एसपी सिटी डॉ. कौस्तुभ ने बताया कि तीन जून की रात में पादरी बाजार के स्टर्नपुर में रहने वाली महिला कलीमुनिशा के घर बाइक से पहुंचे बदमाशों ने गोलियां चलाईं। महिला के हाथ में गोली लगने से वह घायल हो गई। शोर मचाने पर आसपास के लोग जुटे तो हमलावर फरार हो चुके थे। शाहपुर पुलिस ने साजिश के तहत हत्या की कोशिश करने का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी। जानकारी मिली कि महिला की शादी कुशीनगर, नेबुआ नौरंगिया के मौइली मिश्रौलिया निवासी नायब अली 14 साल पहले हुई थी। चार साल से दोनों के बीच विवाद चल है। महिला अपने दो बेटों के साथ पादरी बाजार वाले मकान में रहती है।

दो लाख में दी सुपारी, बिहार से हॉयर किया शूटर
सर्विलांस की मदद से क्राइम ब्रांच और शाहपुर पुलिस ने हत्या की सुपारी लेने वाले बदमाश मुहम्मद इफ्तखार उर्फ गुड्डू मियां निवासी रामधाम मंदिर बंगहा नंबर एक (बिहार) को गिरफ्तार किया। पूछताछ में उसने बताया कि नायब अली ने पत्नी की हत्या करने की सुपारी दी थी। दो लाख रुपए में बात तय हुई। नायब अली के भांजे नौसाद उर्फ पुट्टू ने यह सौदा तय कराया। एडवांस के तौर पर उसे छह हजार रुपए मिले। बाकी काम पूरा होने पर दिया जाना था। घटना में प्रमोद और फिरोज नाम के दो बदमाश भी शामिल थे। महिला की हत्या की साजिश रचने के पहले शूटर और एक अन्य सा​हिल ने किराएदार बनकर रेकी की। वह एक युवती को अपनी पत्नी बनाकर कमरे पर ले आया था। जो विवाद के बहाने गायब हो गई। दोनों ने कुछ दिनों तक महिला की निगरानी की। फिर उस पर गोली चलाने का फैसला लिया।

मोबाइल गिफ्ट कर जीता दिल, करता रहा जासूसी
इफ्तेखार उर्फ गुड्डू मियां एक शातिर बदमाश है जिसके खिलाफ बिहार में कुल 19 मुकदमें दर्ज हैं। एक मुकदमें में उसे आजीवन कारावास की सजा मिली है जिसमें सशर्त जमानत पर छूटा था। आरोपितों के कब्जे से घटना में इस्तेमाल बाइक, तमंचा और कारतूस के दो खोखे मिले हैं। इस घटना में शामिल बदमाश साहिल पहले ही गिरफ्तार हुआ था। साहिल ही वह शख्स है जो किराएदार बनकर अपनी प्रेमिका संग पहुंचा था। विदेश में रहने वाले पति को पत्नी के चाल—चलन पर संदेह था। उसे लगता था कि पत्नी के नाजाजय रिश्ते अन्य लोगों संग है। दो साल पूर्व नायब घर लौटा तो उसने अपनी बीवी को नया मोबाइल फोन दिया। शौहर के हाथों महंगा मोबाइल फोनकर वह खुश हुई। उसे नहीं पता था कि जासूसी के लिए पति ने वह मोबाइल खरीदा। सच यह है कि तब नायब ने दो मोबाइल खरीदे। दोनों में एक ऐसा साफ्टवेयर इंस्टाल किया जिससे वह पत्नी पर नजर रख सके। पत्नी की बातचीत, मैसेजिंग और अन्य गतिविधियों उसको पता चलती रही। पत्नी से दूरी बढ़ने पर उसे लगा कि मकान नहीं मिलेगा। किराए के विवाद का रूप देकर उसने पत्नी की हत्या कराने का प्लान बनाया। लेकिन इस बार उसकी योजना फेल हो गई। अब वह जेल में सलाखों के पीछे हैं।

गोरखपुर: आशुतोष मिश्रा

Leave a Reply