उरुवा में भाजपा नेताओं पर लाठी चलाने वाले थानेदार लाइन हाजिर, तीन सिपाही सस्पेंड

0
310

गोरखपुर। उरुवा में रविवार को ट्रकों की आवाजाही रोकने की बात करने पर सिपाहियों के साथ मिलकर भाजपा नेताओं पर लाठी चार्ज करने वाले थानेदार दिनेश कुमार को एसएसपी ने लाइन हाजिर कर दिया। सोमवार की देर रात एसएसपी ने कार्रवाई की। उन्होंने मुख्य आरक्षी पारसनाथ यादव, आरक्षी मनोज यादव और सुशील जायसवाल को सस्पेंड करते हुए विभागीय जांच के आदेश भी दिए। पुलिस की लाठी से भाजपा नेता गौरी शंकर का सिर फट गया था। एक पत्रकार सहित कई लोग घायल हुए थे। घटना की जानकारी होने पर सोमवार को बांसगांव के सांसद कमलेश पासवान, विधायक संत प्रसाद, पूर्व मंत्री राजेश​ त्रिपाठी सहित कई लोग गौरी शंकर का हालचाल लेने उनके घर पहुंचे। सांसद ने घटना में शामिल पुलिस कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाई करने के लिए एसएसपी से बात की. एसओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने लिए पीड़ितों ने सीओ गोला को तहरीर दिया।

उरुवा में ओवरलोड ट्रक जाने से सड़क खराब हो रही है। रविवार को एक ट्रक का पहिया धंस गया था। पूर्व मंत्री राजेश त्रिपाठी के साथ भाजपा नेता गौरी शंकर मिश्र उर्फ डिंकू मिश्रा, मंडल अध्यक्ष अमित चंद्र पांडेय सहित कई लोग राहत सामग्री बांटने निकले। जनता ने ट्रकों की समस्या बताई तो इसकी सूचना अमित चंद्र पांडेय और नीरज दुबे ने एसओ उरुवा को दी। एसओ उरुवा पहुंचे तो भाजपा नेताओं को अपशब्द कहते हुए लाठी चार्ज कर दिया। गौरीशंकर ने बताया कि पुलिस के हमले में उनको और उनके चाचा हरीशंकर मिश्रा (अप्रवासी भारतीय) को गंभीर चोट लगी। उनका सिर फट गया। उनके चाचा के गले से सोने की चेन और महंगा मोबाइल गायब हो गया। घटना के कवरेज के लिए पहुंचे एक पत्रकार को भी पुलिस ने पीटा और मोबाइल छीन लिया। मामले की जानकारी मिलने पर सोमवार को बांसगांव के सांसद कमलेश पासवान, विधायक संत प्रसाद, भाजपा जिलाध्यक्ष युधिष्टिर सिंह, पूर्व मंत्री राजेश त्रिपाठी, ब्लाक प्रमुख सुनील पासवान, अस्मिता चंद्र, माया शंकर शुक्ला,नित्यानंद मिश्र, श्याम नारायण मिश्र, देवेश निषाद, शत्रुघ्न कसौधन, संतोष त्रिपाठी, संजय सिंह, योगेश प्रताप सिंह, सौरभ चतुर्वेदी,रतन प्रकाश दुबे, रामबृक्ष यादव और संतोष श्रीवास्तव ने घायल भाजपा नेता गौरी शंकर मिश्रा से मुलाकात की। उन्होंने दोषियों के खिलाफ कार्यवाही के लिए एसएसपी से बात की। सांसद ने कहा कि यह घटना अति निंदनीय है। एसओ ने जनता के साथ खराब व्यवहार किया। एसएसपी ने एसओ को लाइन हाजिर कर दिया। अन्य तीन पुलिस कर्मियों को सस्पेंड कर दिया।

Leave a Reply