Gorakhpur: बेरहम मां को पसंद नहीं था डेढ़ साल का बेटा, पानी की टंकी में डुबाकर ले ली जान

0
1242

निर्ममता

डेढ़ साल का अनिकेत अपनी मां संग ननिहाल में आया। खाना खाकर वह सो गया। रात में आठ बजे मां ने शोर मचाया कि अनिकेत गायब हो गया है। घर के भीतर और बाहर उसकी खोजबीन हुई। वह कहीं नहीं मिला तो पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस पहुंची तो मासूम का शव पानी की टंकी में मिला। बाद में पता चला कि बेहरम मां ने सोए मासूम को पानी की टंकी में डाल दिया। डूबने से उसकी मौत हो गई।

गोरखपुर के बेलीपार थाने के ग्राम भीटी में डेढ़ वर्षीय अनिकेत की हत्या उसकी मां मनोरमा ने ही की थी। वह अपने दिव्यांग बेटे की परवरिश को लेकर तंग थी। बेटे को मारने के लिए मौका ढूंढ रही थी। उसने उसे मारने के लिए कई बार प्रयत्न किया, लेकिन उसे सफलता नहीं मिल सकी। भीटी अपने मायके में अवसर देखकर उसने अपने इकलौते पुत्र को पानी की टंकी में डालकर हत्या कर दिया और उसका आरोप अपनी दोनों बड़ी बहनों व पिता अंधन सिंह पर लगा दिया था। बेलीपार पुलिस उसे हिरासत में लेकर पूछताछ में जुटी हुई है।

मां पर हुआ संदेह, सख्ती पर कबूला सच
अनिकेत की हत्या को लेकर पुलिस को पहले से ही परिवार के किसी सदस्य पर शक था। घर की पानी की टंकी में कोई बाहरी बच्चे को डाल नहीं सकता था। तीन फीट की टंकी में छोटे बच्चे के डूबने की बात थानेदार के गले नहीं उतर रही थी। अनिकेत की मां बार—बार अपनी दोनों बहनों पर बेटे की हत्या का आरोप लगाती रही। लगातार बयान बदलने पर पुलिस ने जब उसके साथ सख्ती दिखाई तो वह टूट गई। उसने पल भर में सच कबूल कर लिया।

बच्चे से परेशान होकर उठाया खौफनाक कदम
मनोरमा का कहना था कि वह दूसरा बच्चा चाहती ही नहीं थी। इसलिए अनिकेत जब गर्भ में था तभी उसने अर्बासन की दवा खा ली। दवा से अनिकेत बच गया। हालत बिगड़ने पर दोनों को गोरखपुर के एक नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया। डॉक्टरों ने मां और बच्चे को बचा लिया। इसलिए उसने बच्चे को जन्म दिया। महिला का कहना था कि दवा के असर से उसके बच्चे में विकृति आ गई। इसलिए बच्चे को पालने में उसे कठिनाई हो रही थी। मंगलवार को जब वह पति संग मायके गई तो उसने बहनों को देखकर बच्चे की हत्या करने की योजना बना ली। बच्चा सो गया तो उसे उठाकर पानी की टंकी में डाल आई। कुछ देर के बाद उसने बच्चे के गायब होने की सूचना दी। बच्चे की लाश मिलने पर दोनों बहनों और पिता को फंसाने के लिए तहरीर दी।

मनोरमा ने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया है। उसे हिरासत में लेकर पूछताछ गई। सोते समय उसने अपने बच्चे को पानी में डाल दिया।
उपेंद्र कुमार मिश्र, प्रभारी निरीक्षक थाना बेलीपार

Leave a Reply