देवर ने चाकू से रेता भाभी का गला, तंग आकर उठाया खौफनाक कदम

0
663

गोरखपुर। जिले में अपनों के कत्ल का सिलसिला थम नहीं रहा है। रविवार की सुबह खोराबार इलाके डांगीपार, भैरोपुर में सगे देवर ने भाभी का गला काट दिया। सुबह खेतों की तरफ गई भाभी को पकड़कर सब्जी काटने वाले चाकू से गला रेतकर घर पहुंच गया। सुबह—सुबह टहलने निकले लोगों ने जब गांव की महिला की खून से लतपत लाश देखी तो उनके होश उड़ गए। थोड़ी ही देर में तमाम लोग जमा हो गए। किसी ने इसकी सूचना डॉयल 112 को दी। हत्या की जानकारी मिलते ही एसपी सिटी डॉ. कौस्तुभ, कैंट सर्किल के सीओ सुमित शुक्ला, खोराबार थाना के भार साधक अधिकारी नासिर हुसैन मौके पर पहुंच गए। मां की मौत पर रो—बिलख रहे बच्चों से जानकारी ली। छानबीन में पुलिस ने दो युवकों को पकड़ा। तब मालूम हुआ कि देवर के साथ ही महिला की नजदीकी थी। तीन बच्चों के साथ अलग मकान में रहने वाली रिंकू देवी के पति गुड्डू लॉक डाउन खत्म होने पर मुंबई चले गए​। गुड्डू चार भाई हैं जिनमें सबसे छोटा मोनू ही भाभी और भतीजों की देखभाल करता था।

देवर को उठाया, कत्ल का राज सामने आया
पुलिस ने कोई देर नहीं की, तत्काल कार्रवाई करते हुए महिला के देवर मोनू को उठा लिया। पुलिस उसे जीप में बैठाकर थाने ले जाती। इसके पहले उसने सब कुछ बता दिया। सीओ के सामने यह कबूल कर लिया कि सुबह भाभी से मिलने पहुंचा। खेत में मौका देखकर सब्जी काटने वाले चाकू से गला रेत दिया। वह अपनी भाभी से काफी तंग आ चुका था। भाभी कई युवकों से बात करने लगी थी। यह उसे अच्छा नहीं लगता था। शनिवार की रात उसकी भाभी ने कई बार काल किया. लेकिन तब नाराजगी में उसने कोई बात नहीं की। सुबह मिलने की बात करके फोन काट दिया। अक्सर ही दोनों सुबह—सुबह साथ ही टहलने निकलते थे। इसलिए रविवार की सुबह भाभी से बात करके वह पहले पहुंच गया। घर से थोड़ी दूर पर जैसे ही उसकी भाभी पहुंची। पहले से जेब में रखे हुए चाकू से गले पर हमला कर दिया। जान बचाने के लिए उसकी भाभी चिल्लाई। लेकिन मुंह दबा होने से उसकी चीख बाहर नहीं आ सकी। अंधेरे के कारण कोई उनको देख नहीं पाया। बड़े भाई की पत्नी के हत्यारोपी मोनू ने चाकू और महिला का मोबाइल फोन भी बरामद किया। पुलिस ने ​पकड़कर जेल भेज दिया।

देवर का संबंध भाभी से था। गुस्से में आकर देवर ने अपनी भाभी का कत्ल कर दिया। सूचना पर तत्काल जांच की गई। तीन घंटे के भीतर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया।
सुमित शुक्ला, सीओ कैंट, गोरखपुर

Leave a Reply