15 लाख हड़पने के लिए दोस्त ने की प्रापर्टी डीलर की हत्या, पुलिस ने चार को पकड़ा

0
1937

गोरखपुर। चिलुआताल इलाके के रहने वाले प्रापर्टी डीलर इंद्रासन उर्फ मंटू की हत्या उसके सबके भरोसेमंद साथी ने की। 15 लाख रुपए की टाइल्स का पैसा न चुकाना पड़े। इसलिए उसने अपने साथियों को योजना में शामिल किया। 12 घंटे के भीतर क्राइम ब्रांच और चौरीचौरा पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार करके वारदात का पर्दाफाश कर दिया। मुख्य आरोपित नौतनवां में टाइल्स की दुकान चलाने वाले कन्हैया की तलाश में पुलिस लगी है। घटना का खुलासा करते हुए एसपी नार्थ अरविंद पाण्डेय ने बताया कि गोरखपुर-कुशीनगर फोरलेन पर बेलवा बाबू गांव के पास लक्ष्मी गुप्ता के धान के खेत में सोमवार को प्रापर्टी डीलर इंद्रासन की लाश मिली। गला रेत कर हत्या के बाद शव को वहां फेंक दिया था।इंद्रासन प्रापर्टी डीलिंग का काम करता था। परिवारीजनों ने पुलिस को बताया कि रविवार की दोपहर वह कन्हैया से रुपए लेने की बात कहकर घर से निकले। कहा कि नौतनवां से देर शाम तक लौट आएंगे। लेकिन रात में उनका मोबाइल फोन आफ हो गया। पुलिस ने सर्विलांस के जरिए रमेश उर्फ रोशन,राकेश कुमार, रफीक और प्रवीण को गिरफ्तार किया।


बार-बार पैसे मांगने पर बनाई हत्या की योजना
आरोपियों ने बताया कि मोहरीपुर में किराए पर रहने वाले कन्हैया की नौतनवा में शिवम मार्बल्स और टाइल्स के नाम से दुकान है। इंद्रासन ने अपने सम्पर्क से कन्हैया को राजस्थान से 15 लाख का टाइल्स दिलाया। बार-बार ​इंद्रासन वह पैसा मांग रहा था। लेकिन हर बार कन्हैया रुपए लौटाने में टालमटोल करता रहा। पैसा न देना पड़े. इसलिए उसने इंद्रासन के हत्या की योजना बनाई। रविवार को पैसा देने के लिए कन्हैया ने उसे नौतनवां बुलाया। दुकान पर काफी देर तक इंद्रासन बैठा रहा। योजना के अनुसार अन्य अभियुक्त रफीक, राकेश और रमेश कार के पीछे-पीछे नौतनवां तक गए। तीनों साथी भी दुकान पर पहुंच गए और उन लोगों ने साथ खाना खाया। फिर रात में साढ़े 10 बजे लौटकर गोरखपुर आए। कार में कन्हैया ने बताया कि पैसा चौरीचौरा में मिलेगा। कार से ही सभी चौरीचौरा की तरफ चले गए। जगदीशपुर से आगे बढ़ने के बाद सन्नाटा देखकर कन्हैया ने इंद्रासन का गला कस दिया। आगे बैठे रमेश ने स्टैयरिंग संभाल ली। कुछ दूर जाकर कार रोक दी। खेत में ले जाकर इंद्रासन की मौत पक्की करने के लिए कन्हैया ने चाकू से उसका गला रेत दिया। कार को मेडिकल कॉलेज के पास ले जाकर छोड़ आए। फिर आराम से अपने घरों को लौट गए। कन्हैया को उसके परिचित कारोबारी पार्टनर प्रवीण ने बाइक से नौतनवां पहुंचा दिया। खेत में जब पुलिस पहुंची तो वहां कोई ऐसा सामान नहीं मिला जिससे कोई सुराग मिल सके। इंद्रासन के मोबाइल नंबरों को खंगालने के बाद पुलिस ने घटना की तह जा सकी।

इनको पुलिस ने किया गिरफ्तार
– रमेश उर्फ रोशन निवासी बेलवा रायपुर पोखरा टोला थाना गुलरिहा
– राकेश कुमार निवासी महमूदाबाद थाना पिपराइच
– रफीक निवासी महमूदाबाद थाना पिपराइच
– प्रवीण कुमार निवासी नवापार थाना पिपराइच

गिरफ्तार करने वाली टीम
1. प्रभारी निरीक्षक प्रमोद कुमार त्रिपाठी थाना चौरी चौरा जनपद गोरखपुर ।
2. निरीक्षक सुशील कुमार शुक्ला अपराध शाखा जनपद गोरखपुर ।
3. उ0नि0 सादिक परवेज प्रभारी स्वाट टीम जनपद गोरखपुर ।
4. उ0नि0 चन्द्रभान सिंह प्रभारी S.O.G. क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
5. व0उ0नि0 अश्वनी कुमार तिवारी थाना चौरी चौरा जनपद गोरखपुर ।
6. उ0नि0 प्रणव कुमार ओझा थाना चौरी चौरा जनपद गोरखपुर ।
7. हे0का0 विपेन्द्र मल्ल, स्वाट टीम (क्राइम ब्रान्च) जनपद गोरखपुर ।
8. हे0का0 योगेश सिंह, S.O.G जनपद गोरखपुर ।
9. हे0का0 राजमंगल सिंह, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर 10. का0 रशीद अख्तर खान, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर
11. का0 सनातन सिंह, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर
12. का0 धीरेन्द्र सिंह, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
13. का0 मोहसीन खाँ, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
14. का0 प्रदीप राय, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
15. का0 कुतुबुदीन, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
16. का0 धर्मेन्द्र नाथ तिवारी, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
17. का0 शिवानन्द उपाध्याय, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
18. का0 इन्द्रेश कुमार वर्मा, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
19. का0 रणवीर सिंह, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
20. का0 अरूण कुमार यादव, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
21. का0 गणेश शंकर पाण्डेय, क्राइम ब्रान्च जनपद गोरखपुर ।
22. का0 अजय कुमार थाना चौरी चौरा जनपद गोरखपुर ।
23. का0 मनीष यादव थाना चौरी चौरा जनपद गोरखपुर ।

“घटना में शामिल चार अभियुक्तों को पकड़ लिया गया है। मुख्य आरोपित कन्हैया की तलाश जारी है। जल्द ही उसे भी पकड़ लिया जाएगा।
अरविंद पांडेय, एसपी नार्थ”

Leave a Reply