तीन लाख में कराई राम आसरे की हत्या, जानिए – 19 लोगों ने कैसे रची साजिश, कौन हुआ गिरफ्तार

0
2905

गोरखपुर। खोराबार इलाके के भैंसहा गांव के बल्ली चौराहा पर मेडिकल स्टोर्स संचालक रामआसरे मौर्या की हत्या तीन लाख रुपए में हुई थी। पांच एकड़ भूमि के विवाद को खत्म करने के लिए भाड़े के हत्यारों ने घटना को अंजाम दिया। घटना की साजिश रचने में कुल 19 लोगों का नाम सामने आया है। एक शूटर सहित 10 लोगों को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार करके जेल भेजा। अन्य नौ की तलाश जारी है। डीआईजी जोगेंद्र कुमार ने पुलिस लाइन में पत्रकारों को मामले की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि घटना में शामिल कोई भी शख्स बख्शा नहीं जाएगा।


गोरखनाथ के शूटर ने साथी संग मिलकर मारी राम आसरे को गोली
19 जनवरी की रात करीब आठ बजे रामआसरे अपना मेडिकल स्टोर बंद करके बाइक से घर जा रहे थे। मेडिकल स्टोर से कुछ दूरी पर पहुंचे तभी घने कोहरे का फायदा उठाते हुए शूटरों ने गोली मारकर उनकी जान ले ली। राम आसरे के भाई ने भूमि विवाद में भाई की हत्या का आरोप लगाया। उनकी तहरीर पर पुलिस ने खोराबार ब्‍लाक प्रमुख शैलेश यादव की भाभी सीमा, प‍िता जवाहिर यादव, सपा नेता पंकज शाही, प्रापर्टी डीलर संजय शुक्‍ला, अभय पांडेय समेत 13 लोगों के खिलाफ साजिश के तहत हत्‍या करने और बलवा का केस दर्ज किया। जांच में पता लगा कि गोरखनाथ इलाके में रहने वाले शूटर मोहम्मद अशरफ उर्फ गोलू ने अपने साथी संग मिलकर हत्या की थी। उसे बुलेट और पैसा चौरीचौरा इलाके के करमहां गांव के अभिषेक मिश्रा उर्फ राहुल ने दिया था। राहुल को जब पुलिस ने पकड़ा तो पूरी कहानी सामने आई। रामआसरे और उनके भाइयों की भूमि का मुकदमा हाईकोर्ट में चल रहा है। पूर्व में विवादित भूमि खरीदने वाले पंकज शाही, ओम प्रकाश सहित अन्य लोगों ने ब्लाक प्रमुख के परिवार की फर्म पारिजात एसोसिएट को जमीन बेच दी। लेकिन जमीन पर दवा व्‍यापारी रामआसरे मौर्य और उनके परिवार का कब्‍जा था।

समझौता कराने के लिए अभिषेक ने लिए 65 लाख
चौरीचौरा, करमहा निवासी प्रापर्टी डीलर अभिषेक मिश्रा उर्फ राहुल ने पारिजात और अन्य लोगों के बीच सौदा तय कराया था। विवादित भूमि पर कब्जा कराने के लिए अभिषेक ने पारिजात एसोसिएट से 65 लाख रुपए ले​ लिए। आश्वासन दिया कि वह रामनयन और राम आसरे से बात करके मामले को सुलझा देगा। लेकिन दोनों भाई तैयार नहीं हुए। बात न बनने पर सभी लोगों ने मिलकर दोनों भाइयों की हत्‍या करने की योजना बनाई। अभिषेक ने गोरखनाथ, चक्सा हुसैन के रहने वाले शूटर गोलू उर्फ अशरफ को रामआसरे की हत्‍या करने की सुपारी दी। तीन लाख रुपए में बात तय हुई। बतौर एडवांस गोलू ने चेक से दो लाख रुपए का भुगतान ले लिया। अभिषेक ने गोलू को बल्‍ली चौराहा ले जाकर रामआसरे की पहचान कराई। सात जनवरी को राम आसरे कचहरी से लौट रहा था। तब गोलू ने अपने साथी संग मिलकर हत्या की कोशिश की। लेकिन भीड़ ज्यादा होने से गोली नहीं मार पाया। इसके बाद दोबारा वह अपने साथी संग 19 जनवरी को बल्ली चौराहे पर पहुंचा। घर जाते समय राम आसरे को गोली मार दी। घटना के समय सफारी गाड़ी से अभिषेक मिश्रा अपने साथी करमहा गांव के अजय मिश्रा, हनुमान मिश्रा, कुशीनगर, हाटा के मठिया मिश्र निवासी प्रदीप शुक्‍ल, देवरिया, रुद्रपुर के रहने वाले कृष्‍णमोहन तिवारी के साथ कुछ दूरी पर मौजूद रहा। शनिवार की सुबह क्राइम ब्रांच और खोराबार पुलिस की टीम ने गोलू के साथ ही अभिषेक मिश्रा और उनके चार साथियों, हत्या की साजिश रचने में शामिल झंगहा के गहिरा निवासी रघुनाथ, शिवपुर गांव निवासी पकंज सिंह, खोराबार के जंगल सिकरी निवासी ओमप्रकाश जायसवाल को रामनगर कड़जहां के पास गिरफ्तार किया। घटना में इस्तेमाल पिस्टल, कारतूस, बुलेट और सफारी भी बरामद हुई है।

Leave a Reply