बेटियों ने उठाई अधिवक्ता पिता की अर्थी तो भर आई सबकी आंखें

0
1312

गोरखपुर। जिन बेटियों की डोली उठाने का ख्वाब पिता ने देखा था। उन्हीं बेटियों के कांधे पर पिता की अर्थी निकली। पिता की दुलारी बेटियों और बेटे ने अर्थी उठाई तो हर किसी की आंख भर आई। बेटियों की चित्कार से हर किसी का कलेजा फट पड़ा। लोग यह समझ नहीं पा रहे थे कि खुद को संभालें या फिर उन अभागी बेटियों को जिनके पिता रोज उनकी शादी के सपने बुना करते थे। गगहा के शिवपुर निवासी अधिवक्ता राजेश्वर पांडेय की रविवार की सुबह पट्टीदारों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। सोमवार को उनकी चार बेटियों और एक बेटे ने अंतिम यात्रा के लिए अर्थी को कंधा दिया। पुलिस की सुरक्षा में अधिवक्ता का अंतिम संस्कार बड़हलगंज के मुक्तिपथ पर कराया गया। बेटे आदित्य ने अपने पिता की चिता को मुखाग्नि दी।


मांग को लेकर धरने पर बैठे परिजन, समर्थक
रविवार को पोस्टमार्टम के बाद अधिवक्ता राजेश्वर पांडेय का शव देर रात उनके घर पहुंचा। सोमवार की सुबह परिजनों और समर्थकों ने अपनी कई मांगों को लेकर शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाने से मना कर दिया। इसकी जानकारी होने पर एसडीएम गोला राजेंद्र बहादुर और बांसगांव के प्रभारी सीओ खजनी योगेंद्र कृष्ण नरायन पहुंचे। लोगों की मांग थी कि सभी हत्यारोपितों की गिरफ्तारी 24 घंटे के भीतर की जाए। परिजनों को 50 लाख की आर्थिक सहायता दिलाई जाए। साथ ही परिवार के एक व्यक्ति को नौकरी और सुरक्षा मिले। एक पत्रक भी अधिवक्ता की पत्नी पूनम पांडेय ने अधिकारियों को सौंपा। इस घटना में अधिवक्ता के बेटे आदित्य पांडेय ने पट्टीदार ब्रम्हानंद पांडेय, महेश्वर पांडेय, ओम प्रकाश पांडेय, सूर्य प्रकाश पांडेय और प्रेम कुमार उर्फ चंकी पांडेय के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस आरोपितों की तलाश में छापेमारी कर रही है। दो आरोपितों को हिरासत में लिए जाने की बात भी सामने आई है। लेकिन पुलिस इसकी पुष्टि नहीं कर रही कि किसी पकड़ा गया है।

कार्रवाई न होने पर पूरे प्रदेश में आंदोलन की चेतावनी
बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश के सदस्य मधुसूदन त्रिपाठी ने गोला तहसील के वरिष्ठ अधिवक्ता राजेश्वर पांडेय की हत्या की कड़ी निंदा की है। सोशल मीडिया के जरिए उन्होंने कहा है कि इसकी जानकारी बार काउंसिल आफ उत्तर प्रदेश को दी गई है। इस मामले को संज्ञान में लेते हुए प्रदेश बार काउंसिल के चेयरमैन जानकी शरण पांडेय ने प्रमुख सचिव गृह उत्तर प्रदेश शासन को पत्र लिखकर हत्यारोपियों की अविलंब गिरफ्तारी कर ठोस प्रभावी कार्रवाई की मांग की है। पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपए की आर्थिक सहायता और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए। उन्होंने चेतावनी भी दी है कि उक्त प्रकरण में ठोस कार्रवाई नहीं की गई तो प्रदेश के अधिवक्ता, बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश के नेतृत्व में आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

शोक सभा करके दी श्रद्धांजलि
बार एसोसिएशन सिविल कोर्ट गोरखपुर के सभागार में सोमवार को एक शोकसभा आयोजित की गई। इस शोकसभा में तहसील गोला के वरिष्ठ अधिवक्ता राजेश्वर पांडेय की रविवार को गोली मारकर आपराधिक तत्वों द्वारा हत्या किए जाने की घोर निंदा किए जाने के साथ ही दो मिनट का मौन रखकर उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थन की गई।
शोक सभा वरिष्ठ उपाध्यक्ष घनश्याम त्रिपाठी की अध्यक्षता में हुई जिसका संचालन मंत्री अजय कुमार शुक्ल ने किया। वरिष्ठ अधिवक्ता राजेश्वर पांडेय की हत्या को लेकर शोकसभा में उपस्थित अधिवक्ताओं के बीच काफी आक्रोश दिखा। अधिवक्ता समुदाय इस हत्या से दुखी होने के कारण सोमवार को न्यायिक कार्य से विरत रहा। शोक सभा में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि राजेश्वर पांडेय के हत्यारोपियों की गिरफ्तारी एक सप्ताह में नहीं हुई तो अधिवक्ता आंदोलन के लिए बाध्य होंगे। दिवंगत अधिवक्ता के परिजनों को 50 लाख की आर्थिक सहायता और नौकरी की मांग उठाने की बात भी की गई। इस संबंध में कार्रवाई के लिए मुख्यमंत्री, चेयरमैन बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश और जिलाधिकारी गोरखपुर को पत्रक भेजा गया। शोकसभा में उमापति उपाध्याय,भानु प्रताप पांडेय,धन्नजय त्रिपाठी,मनोज कुमार पांडेय सहित कई अधिवक्ता मौजूद रहे।


थाना घेरेगी कांग्रेस, जिलाध्यक्ष ने ​दिया मदद का भरोसा

सोमवार को जिला कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष श्रीमती निर्मला पासवान भी अधिवक्ता के परिजनों से मिलने पहुंचीं। उन्होंने विवादित भूमि की जगह को देखकर परिजनों को मदद का आश्वासन दिया। निर्मला पासवान ने मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारियों से बात की। कहा कि यदि किसी तरह की लापरवाही हुई तो कांग्रेसजन गगहा थाना का घेराव करेंगे।
मामले को विधानसभा तक ले जाया जाएगा। उन्होंने कहा कि यूपी में अराजकता का माहौल है। अपराधी बेलगाम हो गए हैं। आए दिन हत्या, लूट, बलात्कार, अपहरण की घटनाएं हो रही हैं। उन्होंने अधिवक्ता राजेश्वर पांडेय के परिवार को 50 लाख की आर्थिक सहायता और परिवार के एक सदस्य को नौकरी दिए जाने की मांग की। जिलाध्यक्ष के साथ कांग्रेस नेता तौकीर आलम, डा. राजेश यादव, शादाब अहमद, बृजेश मिश्रा, प्रभात पांडे,सुनील तिवारी, साहिल विक्रम तिवारी,गणेश मिश्रा, हरिशंकर गुप्ता अविनाश तिवारी विक्रांत साहनी, निर्मला गुप्ता, उषा श्रीवास्तव, इरशाद अली खान सहित कई लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply