गोरखपुर के नए एसएसपी ने कहा, अपराधियों को छोड़ना होगा क्राइम

0
871

गोरखपुर। जिले के नवागत एसएसपी जोगिंद्र कुमार ने मंगलवार को कार्यभार ग्रहण किया। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा कि अपराधियों को हर हाल में क्राइम छोड़ना होगा। थानेदारों को थानेदारी करने के लिए फरियादियों की समस्याओं का निस्तारण थाना स्तर पर ही करना होगा। पुलिस अधिकारियों के दफ्तर पर भीड़ लगने पर सवाल—जवाब होगा। लापरवाही सामने आने पर थानेदार जिम्मेदार होंगे। एसएसपी ने कहा कि जिला स्तर और थाना स्तर पर बनाई गई टॉप-10 अपराधियों की सूची की समीक्षा की जाएगी। गैंगेस्टर की प्रापर्टी को जब्त कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि पब्लिक के लिए निष्पक्ष रूप से तटस्थ होकर कार्य किया जाएगा। सही का काम रुकेगा नहीं और गलत का काम होगा नहीं।

जेल है अपराधियों की जगह, रोकेंगे क्राइम
एसएसपी ने कहा कि क्रिमिनल्स की जगह जेल में है। उन्होंने कहा कि क्राइम तो होने नहीं देना है और यदि हो गया तो उसका तत्काल वर्कआउट किया जाएगा। एसएसपी ने कहा कि न्याय की शुरूआत अपराध के दर्ज करने से शुरू हो जाती है. इसलिए घटना की सही धाराओं में एफआईआर दर्ज की जाएगी। हर थाने पर एक जन शिकायत रजिस्टर होगा। थाने पर आने वाले सभी फरियादियों का ब्यौरा उसमें नोट किया जाएगा। पब्लिक की जो भी समस्या होगी उसका क्या निस्तारण हुआ प्रत्येक दिन शाम को उसकी मानीटरिंग खुद करेंगे। पीड़ित हमारे तक दौड़कर न आएं इसकी पूरी व्यवस्था की जाएगी। भूमि से जुड़े विवादों को निस्तारित किए जाने में पुलिस राजस्व विभाग के साथ खड़ी रहेगी।

राजस्थान के मूल निवासी हैं एसएसपी जोगिंद्र कुमार
राजस्थान के बाडमेर जिले के मूल निवासी जोगिंद्र कुमार यूपी कॉडर 2007 के आईपीएस अधिकारी हैं। राजस्थान विश्वविद्यालय जयपुर से परास्नातक किया है। पुलिस मैनेजमेंट में हैदराबाद से उपाधि धारक हैं। आईपीएस बनने से पूर्व वह राजस्थान के स्टेट सर्विसेज ट्रेड टैक्स अपनी सेवाएं दे चुके हैं। आईपीएस बनने के पहले वह टीचर भी रहे हैं। हिंदी मीडियम के छात्र जोगिंद्र कुमार गोरखपुर से पूर्व आगरा में एसपी जीआरपी थे। वाराणसी, इलाहाबाद, बरेली, आगरा और एंटी टेररिस्ट स्क्वॉयड (एटीएस) में एसएसपी के रूप में कार्य कर चुके हैं। फरुखाबाद, हमीरपुर और मऊ में एसपी का पदभार संभाल चुके हैं। मऊ में एसपी रहने के दौरान चिरैयाकोट में दो बच्चों समेत 15 की जान बचा चुके जोगिंद्र कुमार ने मऊ के बदमाश धीरेंद्र सिंह और गोरखपुरख् गगहा के बदमाश विकास सिंह को पुलिस एनकाउंटर में मार गिराया था। इस एनकाउंटर में साहस दिखाने पर उनको राष्ट्रपति पदक (गैलेंट्री अवार्ड) मिल चुका है।

Leave a Reply